Search
  • GISK GISK

विद्या V/S धन



भारतीय दर्शन में विद्या की देवी सरस्वती को और धन की देवी लक्ष्मी को माना गया है l जीवन में दोनों का महत्व है lयदि दोनों में से किसी एक को चुनने का प्रश्न आए तो अधिकांश लोग धन को ही चुनेंगे l नि:संदेह धन से सारी आवश्यकताओं की पूर्ति होती है l विद्या और धन ऐसी वस्तु है कि जिसे उसकी आदत लग जाती हैं, फिर यह कितना ही प्राप्त हो जाए, व्यक्ति का मन नहीं भरता l याद रहे कि धन के पीछे भागनेवाला हर व्यक्ति धनी नहीं बनता मगर ज्ञान के पीछे भागनेवाला हर व्यक्ति ज्ञानी जरुर बनता है l

एक बार श्रीकृष्ण के पास सरस्वती और लक्ष्मी एक साथ में आई l दोनों ने कृष्ण जी से प्रश्न किया कि हम दोनों में से आपको अधिक प्रिय कौन है ? कृष्ण जी पर तो संकट आ पड़ा l थोड़ी देर सोचने के पश्चात उन्होंने बड़ा ही चतुराईभरा उत्तर दिया कि जब सरस्वती आती है तो अच्छी लगती है और लक्ष्मी जाती है तब अच्छी लगती है l इस छोटी - सी कथा में जीवन का बहुत बड़ा सार दिया हुआ है l विद्या प्राप्त करनें की और धन खर्च करने की चीज है l

जो व्यक्ति लक्ष्मी के पीछे भागता है अर्थात् धन के पीछे भागता है वह आकाश छू सकता है और जो सरस्वती के पीछे भागता है अर्थात् ज्ञान के पीछे भागता है स्वयं आकाश उसे छू कर धन्यता का अनुभव करता है l

विद्या और धन चाहे कितना भी व्यक्ति प्राप्त कर ले उसे संतुष्टि नहीं मिलती l विद्या और धन कभी अकेले नहीं आते; धन जब भी आता है तो अपने साथ परेशानी, मुसीबत, दुश्मनी आदि को लेकर आता है और विद्या के साथ सम्मान, मित्रता, राहत इत्यादि आते है l अधिक धन की लालसा में कई लोग मारे गए, कई लोगों ने आत्महत्या कर ली, कई परिवार बरबाद हुए और ज्ञान प्राप्त करते हुए कई लोगों को जीने की नई राह मिली l लाखो, करोड़ो लोगों का कल्याण हो गया l

उन बातों का तात्पर्य यह बिलकुल नहीं है कि हमें धनप्राप्ति को छोड़कर केवल ज्ञानप्राप्ति के पीछे लग जाना चाहिए l धनप्राप्ति की जरुरत और ज्ञानप्राप्ति को मकसद बनाना चाहिए l विद्या से हमें अच्छे-बुरे, उचित-अनुचित का ज्ञान होता है l निर्धन होना उतना बुरा नहीं है जितना अज्ञानी हो जाना l धन तो आता-जाता रहता है, मगर ज्ञान एक बार प्राप्त कर लिया तो वह हमेशा पास में रहता है l कभी - कभी किसी को धन नसीब के बल पर ही मिलता है l धन की हमें रक्षा करनी पडती है l धन व्यय करने से घटता है और ज्ञान बढता है l आवश्यकता हमें दोनों की है l अत: हमें विवेक बुद्धि का उपयोग कर अपने जीवन को सुगम बनाना चाहिए l

5 views0 comments

Recent Posts

See All